Receive up-to-the-minute news updates on the hottest topics with NewsHub. Install now.

अगर आप खूब खर्च करते हैं तो संभल जाएं!

16 February, 2014 12:27 PM
57 0

नई दिल्ली (एसएनएन): देश में अधिक खर्चा करने वालों पर आयकर विभाग जांच करने की योजना बना रहा है. आयकर विभाग 31 मार्च को समाप्त होने वाले वित्त वर्ष से पहले संभावित कर चोरी की घटनाओं की जांच करने की तैयारी कर रहा है. आंकड़ों के मुताबिक विभाग के पास 40,72,829 व्यक्तियों की जानकारी है, जिन्होंने मौजूदा वित्त वर्ष में अपने बचत बैंक खातों में दस लाख रुपये या इससे अधिक की नकदी जमा कराई है. आयकर विभाग के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि विभाग के पास काफी सूचनाएं है. हम केवल यह संदेश देना चाहते है कि कुछ भी गुप्त नहीं है और विभाग को हर बड़े मूल्य वाले लेन देन की जानकारी हासिल करनी होगी. विभाग के पास जो जानकारी है, उनमें 2 लाख रुपए या अधिक मूल्य की म्युच्युअल फंड इकाइयां खरीदने वाले, पांच लाख रुपए से अधिक राशि के बांड या डिबेंचर खरीदने वाले, कंपनियों द्वारा जारी एक लाख रुपये या अधिक राशि के शेयरों के धारक, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी पांच लाख रु. या अधिक राशि के बांड के धारक शामिल है. ऐसे लोगों की संख्या 40,40,396 है. आयकर विभाग के आंकड़ों के मुताबिक 20,61,443 लोगों ने एक साल में केडिट कार्ड से की गई खरीदारी पर दो लाख रपये या अधिक का भुगतान किया. साथ ही 15,55,220 लोगों ने 30 लाख रुपये या अधिक मूल्य की अचल संपत्ति खरीदी है. सूत्रों ने कहा कि विभाग ने ऐसे 12 लाख लोगों और इकाइयों को नोटिस भेजा है, जिन्होंने कर नहीं जमा कराया है. साथ ही इतनी ही संख्या में और भी नोटिस तैयार है. वित्तीय खुफिया इकाई (एफआईयू) के पास कई व्यक्तियों की उंची राशि के लेनदेन से जुड़ी जानकारी मौजूद है. आयकर विभाग इन आंकड़ों के बारे में जानकारी देकर संबंधित व्यक्तियों अथवा उनके लेनदेन को कर दायरे में लाना चाहता है. संबंधित खबरें 15,000 कर्मचारी की छुट्टी करेगा IBM SBI का शुद्ध मुनाफा 34 फीसदी घटा टैक्स मामले का माइक्रोसॉफ्ट से डील पर असर नहीं : Nokia खुदरा के बाद थोक महंगाई से भी राहत खबरों का लगातार अपडेट जानने के लिए आप हमें Facebook पर ज्वॉइन करें. आप हमें Twitter पर भी फॉलो कर सकते हैं.

नई दिल्ली (एसएनएन): देश में अधिक खर्चा करने वालों पर आयकर विभाग जांच करने की योजना बना रहा है. आयकर विभाग 31 मार्च को समाप्त होने वाले वित्त वर्ष से पहले संभावित कर चोरी की घटनाओं की जांच करने की तैयारी कर रहा है. आंकड़ों के मुताबिक विभाग के पास 40,72,829 व्यक्तियों की जानकारी है, जिन्होंने मौजूदा वित्त वर्ष में अपने बचत बैंक खातों में दस लाख रुपये या इससे अधिक की नकदी जमा कराई है.

नई दिल्ली (एसएनएन): देश में अधिक खर्चा करने वालों पर आयकर विभाग जांच करने की योजना बना रहा है. आयकर विभाग 31 मार्च को समाप्त होने वाले वित्त वर्ष से पहले संभावित कर चोरी की घटनाओं की जांच करने की तैयारी कर रहा है. आंकड़ों के मुताबिक विभाग के पास 40,72,829 व्यक्तियों की जानकारी है, जिन्होंने मौजूदा वित्त वर्ष में अपने बचत बैंक खातों में दस लाख रुपये या इससे अधिक की नकदी जमा कराई है.

आयकर विभाग के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि विभाग के पास काफी सूचनाएं है. हम केवल यह संदेश देना चाहते है कि कुछ भी गुप्त नहीं है और विभाग को हर बड़े मूल्य वाले लेन देन की जानकारी हासिल करनी होगी.

आयकर विभाग के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि विभाग के पास काफी सूचनाएं है. हम केवल यह संदेश देना चाहते है कि कुछ भी गुप्त नहीं है और विभाग को हर बड़े मूल्य वाले लेन देन की जानकारी हासिल करनी होगी.

विभाग के पास जो जानकारी है, उनमें 2 लाख रुपए या अधिक मूल्य की म्युच्युअल फंड इकाइयां खरीदने वाले, पांच लाख रुपए से अधिक राशि के बांड या डिबेंचर खरीदने वाले, कंपनियों द्वारा जारी एक लाख रुपये या अधिक राशि के शेयरों के धारक, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी पांच लाख रु. या अधिक राशि के बांड के धारक शामिल है. ऐसे लोगों की संख्या 40,40,396 है.

विभाग के पास जो जानकारी है, उनमें 2 लाख रुपए या अधिक मूल्य की म्युच्युअल फंड इकाइयां खरीदने वाले, पांच लाख रुपए से अधिक राशि के बांड या डिबेंचर खरीदने वाले, कंपनियों द्वारा जारी एक लाख रुपये या अधिक राशि के शेयरों के धारक, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी पांच लाख रु. या अधिक राशि के बांड के धारक शामिल है. ऐसे लोगों की संख्या 40,40,396 है.

आयकर विभाग के आंकड़ों के मुताबिक 20,61,443 लोगों ने एक साल में केडिट कार्ड से की गई खरीदारी पर दो लाख रपये या अधिक का भुगतान किया. साथ ही 15,55,220 लोगों ने 30 लाख रुपये या अधिक मूल्य की अचल संपत्ति खरीदी है.

आयकर विभाग के आंकड़ों के मुताबिक 20,61,443 लोगों ने एक साल में केडिट कार्ड से की गई खरीदारी पर दो लाख रपये या अधिक का भुगतान किया. साथ ही 15,55,220 लोगों ने 30 लाख रुपये या अधिक मूल्य की अचल संपत्ति खरीदी है.

Source: shrinews.com

Share in social networks:

Comments - 0