Receive up-to-the-minute news updates on the hottest topics with NewsHub. Install now.

Health

All category news

  • विश्व पुस्तक मेला 15 से 23 फरवरी तक

    13 February, 2014 9:01 AM 36

    इसके 22वें संस्करण की शुरुआत 15 फरवरी से 23 फरवरी तक इंडियन ट्रेड प्रमोशनल आर्गनाइजेशन (आईटीपीओ) के सहयोग से दिल्ली के प्रगति मैदान में होगी. इस साल पोलैंड को गेस्ट ऑफ ऑनर के लिए आमंत्रित किया गया है. इस साल ज्यादा से ज्यादा संख्या में युवाओं और बच्चों के आने की संभावना है. इसके अलावा आयोजकों को उम्मीद है कि पुस्तकप्रेमी और बुद्धिजीवी इस आयोजन की रौनक बढ़ाएंगे

  • मेडिकल साइंस के आईने में मॉड्यूनॉल

    11 February, 2014 7:09 AM 38

    बीते लगभग पाच सालों में मॉड्यूनॉल नामक तत्व का कई रोगों से पीड़ित लोगों पर सफलतापूर्वक प्रयोग किया जा चुका है। क्या हैं, इस तत्व की खासियतें, जिनसे रोगियों के अलावा अनेक डॉक्टर भी प्रभावित हैं. .

  • नरेंद्र मोदी के सवाल पर भड़के अखिलेश यादव

    10 February, 2014 1:50 PM 20

    अखिलेश ने गुजरात के सीएम पर पूछे गए इस सवाल का जवाब देने के बजाय मीडियावालों पर ही सवाल दाग दिए. उन्‍होंने सवाल पूछने वाले पत्रकार से पूछा कि आप क्यों मोदी के इतने खास बन रहे हैं. अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें. आप दिल्ली आजतक को भी फॉलो कर सकते हैं.

  • स्मार्ट टेक्नोलॉजी की एक और इजाद स्मार्ट तकिया

    10 February, 2014 10:48 AM 13

    स्मार्ट टेक्नोलॉजी की ये दुनिया हमें कहां तक लेकर जाएगी यह तो नहीं पता लेकिन रोज़ हो रहे स्मार्ट इजाद आने वाली जनरेशन को और कितना स्मार्ट बनाती है ये देखना होगा. क्या आप अपने साथी के खर्राटों की वजह से अक्सर रात भर सो नहीं पाते हैं? या फिर खुद अपने खर्राटों की वजह से अक्सर शर्मिंदगी उठाते हैं? इस समस्या से निजात दिलाने के लिए वैज्ञानिकों ने ऐसी स्मार्ट तकिया

  • ...तो डॉक्टरों को कैपिटल लेटर्स में लिखना होगा दवा का नाम

    9 February, 2014 10:13 AM 22

    भारतीय चिकित्सा परिषद ने उस अधिसूचना के मसौदे को मंजूरी प्रदान कर दी है, जिसमें डॉक्टरों के लिए नुस्खे को बड़े अक्षरों में लिखने को अनिवार्य किया गया है. यह कदम इसलिए उठाया गया है, क्योंकि अक्सर इस प्रकार की शिकायतें आती रही हैं कि डॉक्टरों की लिखी भाषा को कैमिस्ट पढ़ नहीं पाते और दवाओं के मिलते-जुलते नामों के कारण मरीज को गलत दवा दे देते हैं. सरकारी

  • युवाओं और महिलाओं को हृदय संबंधी बीमारियां होने का ज्यादा खतरा

    7 February, 2014 7:54 AM 15

    एक अध्ययन में यह दावा किया गया है.फोर्टिस-एस्कॉर्ट हृदय संस्थान की ओर से साल 2004 से 2011 के बीच कराए गए अध्ययन में कहा गया है कि इस दौरान 45 साल से कम उम्र के लोगों में हृदय संबंधी बीमारियों के मामले में 100 फीसदी का इजाफा हुआ. मुख्य रूप हृदय संबंधी धमनी की बीमारी के मामले सामने आए. अध्ययन के अनुसार पुरूषों में पहले ही हृदय संबंधी बीमारी देखी गई तो महिलाओं

  • सावधान: जानलेवा हो सकता है आपका एनर्जी ड्रिंक

    6 February, 2014 9:01 AM 15

    जी हां, ब्रिटेन में कुछ ऐसे ही उदाहरण सामने आए हैं, जिनमें सबसे ताजा मामला एक रग्‍बी खिलाड़ी जोशुआ मैरिक का है. 19 साल के मैरिक की बीते साल जनवरी में मौत हो गई थी. तब उसके पिता ने कहा था कि आम दिनों की ही तरह मैरिक उस रात भी अपने कमरे में सोने के लिए गया, लेकिन अगले सुबह वह नहीं जगा. मैरिक की मौत की जांच कर रही टीम ने हाल ही बताया कि मैरिक एक हाई कैफीन

  • उत्तर प्रदेश में 53 आईएएस अधिकारियों का तबादला, बदले 29 जिलाधिकारी

    4 February, 2014 3:02 PM 15

    उत्तर प्रदेश सरकार ने मंगलवार को व्यापक प्रशासनिक फेरबदल करते हुए 53 आईएएस अधिकारियों का तबादला कर दिया है, जिनमें दो मंडलायुक्त और 29 जिलाधिकारी शामिल है. सरकारी प्रवक्ता ने बताया है कि मिर्जापुर और फैजाबाद के मंडलायुक्तों शंभूनाथ शुक्ला और संजय प्रसाद को क्रमश: प्रमुख सचिव प्रशासनिक सुधार एवं लोकसेवा प्रबंधन तथा गृह विभाग में सचिव पद पर भेज दिया गया है. उनकी जगह पर अजय कुमार

  • जानिए, क्या है ब्रेन कैंसर और स्पाइन कैंसर

    4 February, 2014 6:54 AM 17

    ब्रेन कैंसर के लक्षण दो बातों पर निर्भर करते हैं कि इसका आकार कितना बड़ा है और यह ब्रेन के किस भाग में स्थित है। फिर भी इस कैंसर के कुछ लक्षण ये हैं.. है, तो इस स्थिति से उत्पन्न हुए रोग को सेकंडरी स्पाइन कैंसर कहते हैं। ऐसे कैंसर के मामले कुछ ज्यादा ही सामने आते हैं। स्पाइन कैंसर के सर्वाधिक सामने आने वाले लक्षणों में स्पाइनल कॉर्ड या स्पाइन नर्व का प्रभावित

  • कैंसर से अब डरना नहीं, लड़ना है

    4 February, 2014 6:54 AM 25

    कोई शख्स कैंसर से पीड़ित है, यह जानकर आम तौर पर रोगी के साथ उसके परिजनों के दिमाग में अचानक दहशत हावी हो जाती है। यह सही है कि समय रहते इस रोग का समुचित इलाज न होने पर यह जानलेवा बन सकता है, लेकिन मेडिकल साइंस में हुई तरक्की के कारण अब विभिन्न प्रकार के कैंसर से डरने की जरूरत नहीं.. (डॉ. तेजिंदर कटारिया, प्रमुख: रेडिएशन ऑनकोलॉजी, मेदांता दि मेडिसिटी