दूसरी औरत से सेक्स करे मेरा साथी तो मुझे ऐतराज नहीं: कंगना रनोट

9 December, 2013 5:41 AM

22 0

दूसरी औरत से सेक्स करे मेरा साथी तो मुझे ऐतराज नहीं: कंगना रनोट

बाकी लड़कियों की तरह कंगना के लिए प्यार का मतलब बटरफ्लाइज और रेनबो नहीं है. कंगना के लिए प्यार का मतलब रियलिटी, एक्सेप्टेंस और फिजिकल होने से बढ़कर है.

अच्छी केमिस्ट्री का मतलब प्यार नहीं...

कंगना से जब ये पूछा गया कि उनके लिए प्यार के क्या मायने हैं तो उन्होंने जवाब दिया, 'प्यार का मतलब दो लोगों के बीच की सहज अंडरस्टैंडिंग होती है. एक से ज्यादा इंसानों के साथ आपकी केमिस्ट्री अच्छी हो सकती है. लेकिन केमेस्ट्री का मतलब प्यार नहीं होता. जब आप 16 या 17 साल की उम्र की होती हैं तो लगभग हर अच्छे दिखने वाले लड़के के साथ आप अच्छी केमेस्ट्री रखना चाहती हैं. लेकिन जब आप बड़ी होती हैं, जैसे कि मैं हूं तो प्राथमिकताएं बदल जाती हैं. हम शकल सूरत से आगे बढ़कर सोचने लगते हैं.' कंगना ने बताया कि उन्हें पुरुषों में सबसे ज्यादा आकर्षित करने वाली बात ईमानदारी लगती है.

सेक्स सिंबल नहीं हूं मैं...

'सेक्स सिंबल' कहलाना बहुत निराशाजनक होता है. मेरे अंदर और भी बहुत सी चीजें हैं. अब वक्त आ चुका है कि लोग औरतों को अलग तरीके से देखें. ये हमारी पर्सनैलिटी का एक हिस्सा हो सकता है लेकिन इसे एक टर्म बनाकर इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए. मैं अट्रैक्टिव दिखना चाहती हूं लेकिन मैं नहीं चाहती कि मुझे महज एक 'आइटम गर्ल' या 'सेक्स सिंबल' बोला जाए.

अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें. आप दिल्ली आजतक को भी फॉलो कर सकते हैं.

Source: aajtak.intoday.in

To category page

Loading...