पुलिस वाले की बेटी से प्यार करना युवक को भारी पड़ा

28 January, 2014 8:35 AM

16 0

पुलिस वाले की बेटी से प्यार करना युवक को भारी पड़ा

पुलिस वाले की बेटी से प्यार करना एक युवक को भारी पड़ गया, उसे प्यार की कीमत जान देकर चुकानी पड़ी.

देहरादून में युवक की संदिग्ध हालात में मौत के बाद उसके पिता ने केस दर्ज कराया हैं. इसमें उसने अपने बेटे की मौत का कारण पुलिस उत्पीड़न और मारपीट बताया है.

आरोपित पुलिसकर्मी एक विधायक की सुरक्षा में तैनात है. युवक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है. युवक के बिसरा को जांच के लिए सुरक्षित रखा गया है.

25 जनवरी को हुई इस घटना पर पलम्बर का काम करने वाले बाबूराम पुत्र क्षेत्रपाल सिंह निवासी विजयनगर अधोईवाला रायपुर ने अपने बेटे अंकित उर्फ सागर की मौत के मामले में केस दर्ज कराया है. मामले में हेड कांस्टेबल तथा विधायक की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी सोमपाल और उसकी पत्नी पर आरोप लगाया गया है.

आरोपित थाना डालनवाला स्थित नदी रिस्पना के ब्लॉक दो के निवासी हैं. दोनों परिवारों के घर के बीच नदी है. युवक-युवती का घर नदी के आर-पार था.

बताया जा रहा कि दोनों में काफी समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था. एक समाज के होने के बाद भी लड़की पक्ष को इस दोस्ती पर आपत्ति थी. लड़की के पक्ष वालों ने युवक पर काफी दबाव डाला था. बीते 21 जनवरी को दोनों पक्षों के बीच थाना डालनवाला में समझौता हुआ था. समझौते के बाद युवक के पिता ने बेटे को मूल गांव बिजनौर भेज दिया.

इससे पहले लड़की के पक्ष वालों ने पुलिस से शिकायत भी थी. युवक के परिजनों ने पुलिस को बताया कि 25 जनवरी की रात वे घर में मौजूद थे. उनका किरायेदार भी मौजूद था. सभी ने चाय पी और काम में जुट गए. किरायेदार ऊपरी मंजिल पर चला गया. थोड़ी देर बाद किरायेदार लौट कर नीचे आया तो देखा कि अंकित उदास है.

पूछने पर अंकित ने कारण नहीं बताया तो उसने इस बारे में परिजनों को जानकारी दी. इस दौरान अंकित की तबीयत खराब होने लगी. उसे अस्पताल ले जाया गया. रास्ते में उसका शरीर शिथिल पड़ने लगा था. अस्पताल के डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. अंकित की मौत के बाद परिजन भड़क गए.

एसओ रायपुर शंकर सिंह बिष्ट ने बताया कि घटना के बाद पुलिस ने पोस्टमार्टम कराया तथा शव परिजनों को सौंप दिया. 26 जनवरी को परिजनों ने शव को रास्ते पर रख कर जाम लगाया तथा इंसाफ की मांग की. मौके पर पहुंचे सीओ ने जांच का आश्वासन दिया. इसके बाद शव का अंतिम संस्कार किया गया.

एसओ एसएस बिष्ट ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत के कारणों के बारे में सही जानकारी नहीं मिली है. इसके चलते बिसरा को आगे की जांच के लिये सुरक्षित रखा गया. मृतक के शरीर के अन्य लक्षणों से मौत का कारण विषाक्त पदार्थ का सेवन प्रतीत हो रहा है.

Source: samaylive.com

To category page

Loading...