फिल्म रिव्यू : 'देसी कट्टे' में संदेश है, लेकिन दे नहीं पाई...

26 September, 2014 7:54 AM

24 0

फिल्म रिव्यू : 'देसी कट्टे' में संदेश है, लेकिन दे नहीं पाई...

मुंबई: आज रिलीज़ हुई है फिल्म 'देसी कट्टे', जो बचपन के दो दोस्तों की कहानी है, और वे दोनों ही निशानची हैं... बचपन से ही वे दोनों गरीबी और भुखमरी की ज़िन्दगी जी रहे हैं, और पेट भरने के लिए देसी कट्टे (देसी पिस्तौल) बनाने वाली एक फैक्ट्री में काम करते हैं... बड़े होने पर इनकी मुलाकात होती है, पूर्व मेजर से, जिसकी भूमिका निभा रहे हैं सुनील शेट्टी...

यह मेजर इन दोनों को जुर्म की दुनिया से निकालकर भारत के लिए विश्व शूटिंग प्रतिस्पर्धा के लिए तैयार करना चाहता है... अब एक दोस्त जुर्म का रास्ता छोड़कर देश के लिए मेडल जीतने की कोशिश में जुट जाता है, लेकिन दूसरा ताकत की उसी दुनिया में रहने की ठान लेता है...

इस फिल्म में दोस्ती का जज़्बा है, कानपुर की पॉलिटिक्स है, प्यार है, और बुराई छोड़कर अच्छाई को अपनाने की ख्वाहिश भी है... थोड़ा एक्शन भी है, और थोड़ा ड्रामा भी... फिल्म का विषय काफी अच्छा है, मगर अफसोस, कहानी बेहद कमज़ोर है... बल्कि मैं तो कहानी से ज़्यादा दोष दूंगा, इसके स्क्रीनप्ले को, जो मेरे हिसाब से बहुत गलत तरीके से लिखा गया है... कुछ भी कब, क्या और क्यों हो रहा है, देखकर कभी-कभी हंसी आती है... ज़रूरत से ज़्यादा लम्बी भी है 'देसी कट्टे'...

फिल्म में जय भानुशाली ने ठीक-ठाक काम किया है, लेकिन एक्शन हीरो की पहचान रखने वाले सुनील शेट्टी को ही एक्शन से दूर रखा गया है, हालांकि पूर्व मेजर के रोल में वह अच्छे लगे हैं...

Source: khabar.ndtv.com

To category page

Loading...