वाडिया विवाद: FB पर प्रीति का बयान-ए-दर्द

2 July, 2014 7:23 AM

27 0

आईबीएन-7 | Jul 02, 2014 at 09:32am | Updated Jul 02, 2014 at 12:36pm

प्रीति ने लिखा है कि वो पिछले कुछ दिनों से इस केस के बारे में कुछ लोगों, दोस्तों और मीडिया से मिल रहे प्रतिक्रियाओं से हैरान है, जिंटा ने उनका साथ देने वालों का शुक्रिया भी अदा किया है। प्रीति ने ये भी लिखा है कि ये मामला निजी नहीं और वो 6 साल पहले नेस से अलग हो चुकी हैं। यही नहीं प्रीति ने ये भी लिखा है कि उन्होंने नेस की कंपनी गो एयर का विज्ञापन मुफ्त में किया और तो और केबीसी में कमाए रुपये भी उन्होंने वाडिया चिल्ड्रेन अस्पताल को दान में दे दिए,

मैंने एलआईआर दर्ज क्यों कराई? क्योंकि पिछले कई सालों में कई बार चेतावनी देने के बाद मेरे पास कोई दूसरा विकल्प नहीं था। इसमें अहम बात ये है कि शारीरिक हिंसा और आक्रामक रवैया किसी को भी बर्दाश्त नहीं करना चाहिए, चाहे वो अमीर हो या गरीब, आदमी हो या औरत, मशहूर शख्सियत हो या आम शख्स!

महिला शक्ति, काश एक मां अपने बेटे को उस वक्त रोक लेती, जब उसने देखा कि उसका बेटा गलत कर रहा है। काश एक पत्रकार ये ना लिखता कि एक महिला ऐसे मुद्दे पर हल्ला मचा रही है जहां न रेप हुआ न मर्डर। काश कोई गर्लफ्रेंड उसी वक्त अपने बॉयफ्रेंड से अलग हो जाती है जब उसे पहली बार अपमानित किया गया। काश कोई महिला मतदाता उसी दिन उस नेता को खारिज कर देती, जब उसने महिलाओं को लेकर असंवेदनशील बयान दिया, और वो ये तय कर लेती कि वो दोबारा चुनकर ना आ पाए। काश कोई महिला इस मामले की गंभीरता को ये कहकर हल्का नहीं करती कि ये जलन का मामला है। काश कोई रिपोर्टर उस महिला के चरित्र को नीचा दिखाने वाला लेख ना लिखता, जिसने गलत के खिलाफ खड़े होने का साहस दिखाया, काश!

Source: khabar.ibnlive.in.com

To category page

Loading...