समय से पहले जन्मे बच्चों में दमे का जोखिम अधिक

30 January, 2014 2:06 PM

56 0

लंदन, एजेंसी। समय से पूर्व जन्मे बच्चों को बचपन में दमा होने की संभावना अधिक होती है. यह बात एक नए अध्ययन से पता चला है. यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग के एक विज्ञप्ति के अनुसार, दुनियाभर में 15 लाख से अधिक बच्चों के अध्ययन में पता चला है कि समय से पूर्व जन्मे बच्चों को दमा और दमा जैसे लक्षणवाला रोग होने का खतरा अधिक होता है.

रिपोर्ट के अनुसार, विद्याभ्यास से पूर्व के शिशुओं व स्कूल जाने वाले बच्चों में दमा विकसित होने के लक्षण समान हैं. शोधकर्ताओं ने बताया कि यह समझना महत्वपूर्ण है कि समय से पूर्व जन्मे बच्चों में दमे का खतरा क्यों होता है, क्योंकि बचपन में होने वाले दमा को जल्द ठीक किया जा सकता है.

मास्ट्रिच्ट और हारवर्ड यूनिवर्सिटी के सहयोग से अध्ययन का नेतृत्व करने वाले यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग के सेंटर फॉर पॉपुलेशन हेल्थ साइंसेज के जैसपर बीन के अनुसार, चिकित्सकों और माता-पिता को समय से पूर्व जन्मे बच्चों में दमा के बढ़ते खतरों के प्रति जागरूक होने की आवश्यकता है, ताकि शीघ्र उपचार और बचाव संभव हो सके.

उन्होंने बताया कि हमें उम्मीद है कि समय से पूर्व जन्मे बच्चों पर नजर रखकर और इलाज के तरीके में बदलाव लाकर हम भविष्य में होने वाली दमा सहित सांस की गंभीर बीमारियों के खतरों को कम कर सकते हैं. हमारे परिणाम, समय से पहले जन्मे बच्चों में दमा व दमे जैसी बीमारियों से बचाव करने और उनके उपचार में मदद करेंगे.

मालूम हो कि सामान्य तौर पर जन्म अवधि 40 हफ्ते की होती है और इससे 3 हफ्ते पहले जन्मे बच्चों में दमा होने की आशंका 50 फीसदी ज्यादा होती है. जो बच्चे समय से 2 महीने पूर्व जन्म लेते हैं, उनमें समय से जन्मे बच्चों की अपेक्षा दमा होने का खतरा 3 गुना ज्यादा होता है. अध्ययन के परिणाम प्लोस मेडिसिन जर्नल में प्रकाशित हुए हैं.

(जानो दुनिया के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. अब आप हमसे फ़ेसबुक और

href=”https://twitter.com/janoduniya”>ट्विटर पर भी जुड़ सकते हैं.)

Source: janoduniya.tv

To category page

Loading...