15 से 29 साल के युवाओं में 13.3 फीसद बेरोजगार: सर्वेक्षण

1 December, 2013 3:17 PM

30 0

श्रम मंत्रालय की रिपोर्ट ‘युवा रोजगार-बेरोजगार परिदृश्य 2012-13’ में एक और दिलचस्प तथ्य सामने आया है कि ऐसे लोग जो लिख पढ़ नहीं सकते यानी निरक्षर हैं उनके बीच बेरोजगारी की दर निचले 3.7 फीसद के स्तर पर रही.

रिपोर्ट में यह तथ्य भी सामने आया है कि वास्तव में जिन लोगों को रोजगार मिला हुआ है, वे अपनी शैक्षणिक योग्यता से कम की नौकरी कर रहे हैं और ऐसे में समाज मूल्यवान कौशल गंवा रहा है जिससे मजबूत उत्पादकता प्रभावित हो रही है.

यह रिपोर्ट मंत्रालय के तहत चंडीगढ़ में श्रम ब्यूरो ने तैयार की है. इसके तहत अक्टूबर, 2012 से मई, 2013 के दौरान सभी राज्यों में सर्वेक्षण किया गया.

सर्वेक्षण के आधार पर रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘अखिल भारतीय स्तर पर 15 से 29 साल की आयु के 1,000 लोगों में 133 बेरोजगार थे. प्रतिशत के हिसाब से यह आंकड़ा 13.3 फीसद बैठता है’’.

सर्वेक्षण में कहा गया है कि 15 से 29 साल के प्रत्येक तीन युवाओं में एक ने कम से कम स्नातक किया हुआ और वह बेरोजगार है.

ग्रामीण क्षेत्रों में बेरोजगारी की दर स्नातकों के बीच 36.6 प्रतिशत पाई गई. वहीं शहरी क्षेत्रों में यह आंकड़ा 26.5 फीसद का रहा.

सर्वेक्षण में बताया गया है कि 15 से 29 साल की उम्र के लोगों में जिन लोगों को रोजगार मिला हुआ है उनमें से ज्यादातर या तो स्वरोजगार में है या फिर अस्थायी कामगार हैं.

यह सर्वेक्षण कुल 1,33,354 परिवारों के बीच किया गया. इनमें से 82,624 परिवार ग्रामीण क्षेत्रों के और 50,730 शहरी क्षेत्रों के हैं.

सर्वेक्षण के अनुसार 15 से 24 साल की आयु वर्ग की रोजगार में भागीदारी 31.2 प्रतिशत, 18 से 29 साल की आयु में 47.3 प्रतिशत तथा 15 से 29 साल की आयु वर्ग में 39.5 फीसद की रोजगार में भागीदारी है.

सर्वेक्षण में विशेषरूप से उत्तरी क्षेत्र के बारे में कहा गया है कि हरियाणा में इस आयुवर्ग की श्रमबल में भागीदारी 35.3 प्रतिशत, पंजाब में 36.2 प्रतिशत, संघ शासित प्रदेश चंडीगढ़ में 36.3 प्रतिशत और हिमाचल प्रदेश में 45.1 प्रतिशत है.

Source: samaylive.com

To category page

Loading...